दिल

मेरे दिल की जगह कोई खिलौना रख दिया जाए ,
वो दिल से खेलते रहते हैं , दर्द होता है "

रविवार, 25 अप्रैल 2010

जीवन की परिभाषा !!


माँ ....
कितना पवित्र है यह शब्द
संक्षिप्त , लहजे में आसान ,
हर
ध्वनि में विद्यमान
कितना विस्तृत
है यह शब्द
जिसकी मधुर ध्वनी ने
हर साज़ , हर आवाज़ को
जिंदगी बख्शी
है ,
और मुझे भी !

हर रिश्ते का आधार ,
जीवन की परिभाषा
है माँ

मात्र
एक शब्द नहीं !!


©शिव कुमार साहिल ©

13 टिप्‍पणियां:

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है! माँ के बारे में जितना भी कहा जाए कम है! हर एक शब्द दिल को छू गयी! उम्दा रचना!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

SACH HAI MAA SHABD APNE AAP MEIN HI POORA YUG HAI ... GAATHA HAI ... KHOOBSOORAT RACHNA ...

गिरिजेश राव ने कहा…

अच्छे भाव।
आस पास के और भी बहुत से विषय आप को पुकार रहे हैं। अपनी कवि दृष्टि को वहाँ भी फिराइए।
वर्तनी संशोधन:
हैं - है
ध्वनी - ध्वनि
ईक - इक (अच्छा हो कि 'एक' लिखें)

तिलक राज कपूर ने कहा…

अच्‍छी अभिव्‍यक्ति है, बधाई।
गिरिजेश राव साहब ने बहुत सटीक वर्तनी संशोधन किया है। धन्‍यवाद के पात्र हैं वे भी।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

भावनाएं शब्दों का रूप लेकर
जब अपना प्रभाव छोड़ने लगें,
तो लेखन सार्थक हो जाता है.
शिव कुमार जी...प्रस्तुत रचना में
आप बेहद कामयाब रहे हैं
बधाई स्वीकार कीजिये

sujata ने कहा…

बहुत खुबसूरत कविता हैं साहिल..इतनी काम उम्र में इतना सटीक कैसे लिखते हो? बहुत बढ़िया..........

नीरज गोस्वामी ने कहा…

माँ इश्वर का रूप होती है... माँ को समर्पित बहुत अच्छी रचना है ये आपकी...बधाई
नीरज

irshad ने कहा…

janab sahil sahb mairi gazlon par apne zajbaat ka izhar karne ka shukriya aap ki nazmen badi lazavab

शारदा अरोरा ने कहा…

ये महसूस करना ही अद्भुत है ।

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

बेहतरीन भावाभिव्यक्ति...सुन्दर लिख रहे हैं आप..शुभकामनायें.

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

jaise chehra hata ke chehre ka
sirf ehsaas rakh diya ho wahaan

-gulzar

sachm,uch ..ma na chehra hoti ..na maa matr shabd hota hai .. maa ek ehsaas hai ...ek jaanvida ehsaas

achhi nazm

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

Beshak.....



सार्थक भावाभिव्यक्ति.... साधुवाद..

SAHIL ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत भाव और अभिव्यक्ति के