दिल

मेरे दिल की जगह कोई खिलौना रख दिया जाए ,
वो दिल से खेलते रहते हैं , दर्द होता है "

गुरुवार, 11 मार्च 2010

गर्म, हिन्दू - मुस्लिम का, मुद्दा कर गया
कोई चुनाव जीतने का , दाबा कर गया

चोरो के बस में नहीं थी जो ,
वो चोरी इक , नेता कर गया

गाल पिचके से थे जब नौकरी थी मिली ,
गुस खा -खा कर खुद को, तगड़ा कर गया

जिसे बुडे माँ-बाप का सहारा होना था
बड़ा होते ही उन्हें , बे सहारा कर गया

भूख कि खातिर आज मै भी ,
जेब काटने का , होंसला कर गया

तंग सा था वो महंगाई के चलते ,
सुना हैं कल रात लगा , फंदा मर गया


© शिव कुमार साहिल ©




8 टिप्‍पणियां:

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

चोरो के बस में नहीं थी जो ,
वो चोरी इक , नेता कर गया
बहुत शानदार. बधाई.

Rajni Nayyar Malhotra ने कहा…

shahil ji har sabd ne aaj ki sachhi ko samne rakh diya hai........jaisa aaj ka samy guajar raha vastuth wahi byan kiya hai ........aur aaj ke neta ji ki to puchho mat ... wo sareaam janta ke jeb me daka daal rahe par sabhi muk hain....

kamal ने कहा…

भूख कि खातिर आज मै भी ,
जेब काटने का , होंसला कर गया

Wah !! Kya Baat Hein

gaurav ने कहा…

Very nice bro... luv it

तिलक राज कपूर ने कहा…

आ़पके पास भाव और लफ़्जों की कमी नहीं, थोड़ा शिल्‍प पर मेहनत की ज़रूरत है।
कहते रहिये,
बढ़ते रहिये।
दिल की बातें,
लिखते रहिये।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

खूबसूरत ग़ज़ल ... नये अंदाज़ के शेर हैं .... बहुत अच्छे लगे ...

sujata ने कहा…

वाह......... बहुत खूब.....कितनी मार्मिक कविता हैं

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

bhaav achhe hain ..craft pe dhyan dijiye jara sa.. aapki shayri umda rahegi