दिल

मेरे दिल की जगह कोई खिलौना रख दिया जाए ,
वो दिल से खेलते रहते हैं , दर्द होता है "

सोमवार, 26 मई 2014

The Desire

तम्मना हद से गुज़र गई हैं अब 
चाँद पर बस गई हैं जाकर 
रात सितारों से 
आवाज़े दी मुझको मेरे सपनो ने ,
कुछ सपने मेरी दहलीज़  पर गिरे आकर 
टूट कर सितारों से ,

आज सुबह  चुभ  गए 
मेरे  पेरों में कुछ टूटे सपने 

घाव पेरों में लेकर निकला हूँ घर से 
इन  नमक के रास्तों पर !



2 टिप्‍पणियां:

Digamber Naswa ने कहा…

टूटे हुए सपनों की चुभन ही बहुत है ...
बहुत उम्दा ....

Gaddar Shayar ने कहा…

नमक के रास्ते बेहतरिन